vasudeomangal@gmail.com

'

 

ब्यावर का बादशाह मेला 

रचनाकार:- वासुदेव मंगल

मुगलकालिन परम्‍परा का निर्वहन 
शाही बादशाह मेला ऐतिहासिक शहर ब्‍यावर में अनोखे अन्‍दाज में 
रंगों के त्‍यौंहार के अगले दिन अल्‍प समय के लिए बादशाह अकबर की यादगार संवारे जनता जनार्धन के बीच शाही अन्‍दाज में सन्र 1851 से उत्‍तरोत्‍तर एवं निरन्‍तर बढते हए देशी विदेशी पर्यटकों एवं अपार जनसमूह के बीच अनूठी लोकप्रियता हासिल किये हुए है जो कि ऐतिहासिक शहर ब्‍यावर के सम्‍पूर्ण विश्‍व में अनोखी पहचान है। गुलाल अबीर का यह मेला परस्‍पर सोहार्द और जनमानस की खुशियों की उन्‍मुक्‍त अभिव्‍यक्ति की अनूठी मिसाल है। जो कि बेमिसाल है। 
वेब साईट प्रस्‍तुतकर्ता वासुदेव मंगल स्‍वयं भी इस गौरवमयी बादशाह मेले में बादशाह का अनूठा एवं यादगार किरदार एक नहीं अनेकों बार अपनी अदभुत समता से निभाने की यादे आज भी जन मानस अपने स्‍म़ति पटल पर संजोये हुए है। 


लेखक स्वयंइस मेले में बादशाह का अभिनय छ बार सन् 1978, 1986, 1987, 1988, 1990 व 1991 में कर चुके है।
 
हर दिलकश अजीज का मन भावन गुलाल का बादशाह मेला अग्रवालों की देन है। यह मेला कौमी एकता का जीवन्त रूप है। यह मेला होली के तीसरे दिन सांय चार बजे राजस्थान प्रान्त के ह्रदय स्थली ब्यावर शहर में हर साल पर्यटन मेले के रूप में आयोजित किया जाता है स्थानिय प्रशासन जिला, प्रादेशिक प्रशासन व अग्रवाल समाज के सामूहिक प्रयत्नों से। 
यह मेला भारत वर्ष की मूल संस्कृति की झलक लिये हुऐ आज की भैतिक दुनियाॅं में मानव मन व मस्तिष्क को प्रफुल्लित करने का एक अनोखा प्रयास है ।

इस मेले को ब्यावर शहर के संस्थापक कर्नल डिक्सन ने सन् 1851 में अग्रोहा, शेखावाटी, बेरी, भिवानी से आये अग्रवाल फतेहपुरिया के सहयोग से पीरामल टोड़रमल की दूकान से पाॅंचबत्ती के पास कपड़ा बाजार से आरम्भ किया जो फतेहपुरिया बाजार, अजमेरी दरवाजे से होता हुआ उप-जिला कार्यालय पर उपजिलाधिश द्धारा बादशाह के साथ गुलाल खेलने के पश्चात् रात्रि को करीब 8 बजे समाप्त हो जाता है इस मेले को देखने के लिए दूर-दूर से व आस-पास के इलाकों से हजारो नर-नारी व विदेशी सैलानी आते हैं । चारों और मेले में भारतीय संस्कृति दृष्टिगोचर होती हैं वह सभी जाति, धर्म-सम्प्रदाय के लोगोे के आपसी मेल-मिलाप व गुलाल से परस्पर खेलने व बादशाह के साथ गुलाल से खेलने का आनन्द प्राप्त होता हैं ।

पौराणिक कथानुसार अकबर बादशाह के नवरत्न राजा टोडरमल द्धारा जादूई करिश्में से बादशाह को आखेट के वक्त जंगल में आवश्यक उपकरण व मुद्रा उपलब्ध कराये जाने से प्रसन्न होकर बादशाह अकबर ने राजा टोडरमल को चार घण्टे की बादशाहत प्रदान की थी जिसकी याद ताजा रखने के लिये ब्यावर में हर साल होली के त्यौहार पर छारण्डी के अगले दिन हर दिलकश अजीज का बादशाह मेले का त्यौहार मनाया जाता है । 
बादशाह सलामत व शाहजादा वजीर की सवारी खुले ट्रक में ड्राइवर की केबिन की छत पर पालकियों में परम्परागत वेश भूषा में सजाकर निकाली जाती है जिसे देखने के लिये व बादशाह के हाथ से गुूलाल रूपी खर्ची लेने के लिये हजारों की संख्या में जनता की भीड़ लालयित रहती है । बादशाह की सवारी जनता के साथ गुलाल खेलती हुई आगे बढ़ती रहती हैं । इस सवारी के आगे-आगे बीरबल नवरत्न अपनी परम्परागत वेशभूषा में मूजरा स्वरूप घ्ूामर व मोर नृत्य करता रहता हैं । इस मैले में चलचित्रकार बादशाह मेले की सम्पूर्ण फिल्म बनाते है जो दूरदर्शन पर दिखाई जाती है । राष्ट्रीय, व क्षेत्रीय जन सम्पर्क कार्यालय आकाशवाणी दूरदर्शन विभाग इसकी विशेष व्यवस्था करते हैं । बादशाह के हाथ से ली गई गुलाल शकुनी माना जाती है जिसे प्राप्त करने के लिये प्रत्येक मेलार्थी आतुर रहता है और किसी भी तरह से बादशाह से खर्ची लेने की कोशिश करता है । जिसे यह खर्ची मिलती है व अपने को धन्य समझता है और वर्ष पर्यन्त इसे अपने गल्ले में रखता है जिससे घर दुकान में शंाति व धन धान्य बना रहे तथा देवी की माॅंगलिक कृपा बनी रहे । इस प्रकार जनता को बादशाह के साथ गुलाल खेलकर आनन्द की अनुभूति होती है । लोगो को परस्पर ईष्ट मित्रों परिवारजनों, रिश्तेदारों से गुलाल खेलने पर विशेष आनन्द आता है । आखिर बादशाह की सवारी गुलाल उड़ाती हुई उप जिला कार्यालय पर रात्री को अॅंाठ बजे करीब पहुॅंचती है जहाॅं उपजिलाधीश अपने स्टाफ के साथ बादशाह की अगवानी व स्वागत करने के लिये मौजूद रहते है तथा बादशाह के साथ गुलाल खेलने को आतुर रहते है । यहाॅं पर रोशनी का विशेष प्रबन्ध किया जाता है जहॅंा पर आरम्भ होती है गुलाल रूपी लड़ाई बादशाह व उपलिाधीश के मध्य करीब आधा घण्टे तक जिसे जन सैलाब देखने का आनन्द लेता है । बादशाह व उपजिलाधीश के बीच बीरबल ढोल नगाड़ों व साज की आवाज पर परम्परागत मुजरा नृत्य करता रहता है । तदन्तर उपजिलाधीश बादशाह को नमन करते हुए बादशाह को सम्मान प्रदान करते है जिसे बादशाह अपने फरमान के साथ सहर्ष स्वीकार करते है तथा बीरबल को उप जिलाधिश नजराना प्रदान करते है नारियल व मुद्रा के रूप में । इस प्रकार यह मेला समाप्त होता है ।



लेखक स्वयं इस मेले में बादशाह का अभिनय छ बार सन् 1978, 1986, 1987, 1988, 1990 व 1991 में कर चुके है । वास्तव में यह एक साधारण मेला नहीं है अपितु देवी की एक चम्तकारिक शक्ती ही होती है । लेखक के स्वयं के अनुभव से यह शाश्वत सच है कि इतने विशाल मेले का बखूबी से सामना मानव रूपी बादशाह कर लेता है तथा भैरूहिक शक्ति से बीरबल रात्री पर्यन्त यहाॅं तक कि अगली सुबह तक बीरबल सारे शहर में नृत्य कर मुजरा जनता जनार्दन के घर करता रहता है । दर्शक अगले मेले की आशा अपने मन में संजोये अपने-अपने घर वापिस जाते हैं और बादशाह की सवारी उप जिलाधीश कार्यालय से अन्य मार्ग से वापिस अपने गन्तव्य स्थान पर आती है जहाॅं से यह आरम्भ होती है । उस वक्त लगभग रात्री को 10 या 11 बजे का समय हो जाता है जंहा से बादशाह अपने परिवारजन के साथ ढ़ोल के साथ अपने घर जाते है । बादशाह का मूजरा करने तत्पश्चात बीरबल बादशाह के घर जाता है जंहा बादशाह से बक्शीस लेता है तथा बादशाह के गले मिलता है । 


इस प्रकार जनता भी अपने घर पर परिवारजन एवं ईष्ठ मित्रों से गुलाल खेलकर खुशी का इजहार करती है । इस प्रकार समाप्त होता है ब्यावर का बादशाह मेला । पिछले कुछ वर्षों से इस मेले का रंग फिका पड़ने लगा है । कारण बीरबल का किरदार कमजोर होना है । इस मेले की वास्तविक धूरी बीरबल होती है । सन् 1905 से 1993 तक एक ही परिवार की तीन पीढ़ी तक बीरबल का अभिनय इस मेले में होता चला आया । श्री ईशरदास व्यास अन्तिम बीरबल थे जो सन् 1993 में दिवंगत हो गये । उसके बाद जो व्यक्ति बीरबल का किरदार करता है वह एक दम नया खिलाड़ी है जो इस मेले को सम्भाल नहीं पाता । दरअसल बीरबल के पैरों के साथ-साथ बादशाह व वजीर के गुलाल उडाने को हाथ बराबर उठतेे रहते है जो अब इस मेेले में देखने को नहीं मिलते कारण बीरबल का नृत्य का दारम्दार लय पूर्वक नहीं होता हैं । इसप्रकार अब यह सवारी पाॅंच बजे के स्थान पर छः बजे आरम्भ होती है और सात बजे तक अजमेरी दरवाजे बाहार चली जाती है और तुरन्त ही उपजिलाधीश के प्रागण पर पहुॅंच जाती है जहाॅं से ही बीरबल अपने घर चला जाता है । अतः बीरबल का परम्परागत रात्री तक शहर की परिक्रमा कर नृत्य करना अब देखने को नहीं मिलता जो कोई जमाने में शकुन माना जाता था और जनता भी अब अपने घर पर बीरबल का मुजरा नहीं करा पाती । अतः आने वाले समय में मेले के आयोजकों को इस तरफ विशेष ध्यान देना होगा तब ही इस मेले में जान आ पायेगी नहीं तो मेला सालों साल फिका ही पड़ता चला जायेगा ।

 

Copyright 2002 beawarhistory.com All Rights Reserved